Ultrasonic Sensor with Arduino in Hindi

0
250

हैलो दोस्तों, आज हम बात करेंगे एक एसे sensor की जिसका defense, industries, navigation, medical हर क्षेत्र में उपयोग होता है. आज हम Ultrasonic sensor की बात करेंगे. Ultrasonic technology को आप SONAR के नाम से भी जानते है. SONAR यानी Sound Navigation And Ranging. इससे आप किसी भी ऑब्जेक्ट की दूरी, साइज़ और shape नाप सकते है. तो चलिए पहले समझते है कि ultrasonic sensor काम केसे करता है.


Working of Ultrasonic Sensor

Ultrasonic technology में sound waves को send और receive करके दूरी नापी जाती है. आप सोच रहे होंगे की sound waves है तो हमे यह सुनाई क्यों नहीं देती? यह waves high frequency range की होती है इसलिए हमे सुनाई नहीं देती है. हम मनुष्य 20 Hz से 20 kHz तक की frequency सुन सकते है और ultrasonic 100 kHz से 50 MHz पे काम करता है. एक Regular interval पर pulse send करते है और कोई object से टकराकर यह pulses reflect होती है जो receiver receive करता है. send और receive करने के लिए अलग transducer होता है. Send pulse और Recieve pulse के बीच का time नाप के दूरी नापी जाती है.

2019-06-02_13h52_52.png

ultrasonic sensor use करने का फायदा यह है की वो dust, smoke, light, color से affect नहीं होता. आप इसको किसी भी envirnoment में use कर सकते है.


HC-SR04

तो अब हमे अपने project के लिए यह sensor चाइये, तो हमारे पास HC-SR04 है. यह sensor 2cm – 400cm तक दूरी नाप सकता है और इसकी accuracy 3mm की है. यह sensor में 4 pins है VCC, GND, Trigger, Echo. यह sensor तीन काम करता है:

2019-06-02_13h59_14.png

  • सबसे पहले Trigger में से 10 microsecond के लिए high signal send करते है.
  • उसके बाद module आठ 40 kHz के pulse send करता है और reflect हुआ के नहीं उसकी राह देखता है.
  • अगर reflect हुआ तो टाइम measure करता है और टाइम से हम दूरी  formula से निकल सकते है.

distance= time x velocity of sound / 2


Interfacing of Ultrasonic sensor with Uno

चलिए बिना वक्त जाया किए शुरू करते है की इसको अपने uno के साथ interface केसे करना है. सबसे पहले हम vcc को 5v और gnd connect कर देंगे. फिर echo को uno के 7 और Trig को 6 पे connect कर देंगे.

2019-06-02_13h59_39.png

int trig = 6;  
int echo = 7;   
long duration, cm;
void setup() {
  //Serial Port begin
  Serial.begin (9600);
  pinMode(trig, OUTPUT);
  pinMode(echo, INPUT);
}
void loop() {
  digitalWrite(trig, LOW);
  delayMicroseconds(5);
  digitalWrite(trig, HIGH);
  delayMicroseconds(10);
  digitalWrite(trig, LOW);
  pinMode(echoPin, INPUT);
  duration = pulseIn(echo, HIGH);
  cm = (duration/2)/ 29.1;  
  Serial.print(cm);
  Serial.print("cm");
  Serial.println();
  delay(250);
}

हमने दूरी नाप ने के लिए वो तीन steps है उनको ही follow किया है. तो सबसे पहले हम Trig को output और echo को input define कर देंगे. फिर Trig को 5 microseconds के लिए low करेंगे ताकि थोडा buffer time मिले. उसके बाद 10 microseconds के लिए हम उसको high करेंगे. यह 10 microseconds के बाद Trig से 8 pulses send होंगी. अगर कोई ऑब्जेक्ट से यह pulses reflect होंगी तो हम यह pulses travel करने के लिए कितना टाइम ले रही है वो नोट करेंगे. इसके लिए हम pulseIn() function का इस्तमाल करेंगे. pulseIn(echo,high) का मतलब है यह हमे pulse कितने समय तक high रहा वो टाइम देगा.

अब हमे टाइम मिल गया है, हमारे पास फार्मूला भी है तो हम दूरी serial monitor में print करवा सकते है.

तो दोस्तों यह एक सरल और काफी काम का sensor है. आप इसको security system, industrial और कही सारे projects में use कर सकते है. चलिए दोस्तों तो मिलते है अगली बार तब तक के लिए Happy IoTing!!!!!


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here