Solenoid ( सोलेनोइड) क्या है? | Working |Application | Construction


दोस्तों स्वागत है आप सभी का मेरे इस electronic column के नए blog में. तो आज हम एक ऐसे component के बारे में पढेंगे जो electrical और electronic component दोनों में अधिकतर बार इस्तेमाल किया जाता हैं. जी हाँ हम बात कर रहे हैं solenoid की. इस component को हमने 10 class में बहुत अच्छे से पढ़ा होगा. तो आज हम इसी के बारे में discuss करेंगे. चलिए शुरू करते हैं.

Solenoid kya hai | Working |Application | Construction
Solenoid

Construction of a solenoid

Solenoid insulated या enameled wire का coil है जो rod-shaped form पर wound किया हुआ होता है और ये rod –shape solid iron, solid steel, या powdered iron से बना होता है. इस तरह के devices को हम electromagnets, electronic circuit में inductors के जैसे, और miniature wireless receiving antenna के जैसे हम इस्तेमाल कर सकते हैं. Solenoid की मदद से हम एक ऐसा भी device बना सकते हैं  जो electrical energy को mechanical energy में convert करता है. जब solenoid में current flow होता है तो वह electromagnet बन जाता है. यह device electric current से magnetic field बना देता है और फिर उसी magnetic field को linear motion बनाने में इस्तेमाल करता है. Electromagnet इसलिए ज्यादा useful है क्युकि हम इसे switch की तरह on और off कर सकते हैं जो regular magnet में नहीं हो सकता है. और ये काम हम electric current को apply कर या उसे remove करके कर सकते हैं. Solenoid का common application है- switch को power on/off करना, जैसे automobile में starter है, या valve की तरह, जैसे sprinkler system है.

Image result for solenoid applications

Electromagnet solenoid कैसे काम करता है?

जब एक lazy charge couch पर बड़े आराम से बैठा है और कुछ भी नहीं कर रहा है और electric field से surrounded हैं. हैं ना मतलब की बात क्युकि वो एक electric charge है भाई. पर अगर वही charge में थोड़ा motivation आ जाए और वह block के around चक्कर काटने चला जाता है तो वह अचानक से magnetic field produce करता है. ये आप लोगो को थोड़ा odd ज़रूर लगता होगा और ये बहुत सारे लोगो को ऐसा ही लगता है. Physicists ने बाद में ये पता लगाया की ये दोनों field nature के same force का हिस्सा है:electromagnetism.

Solenoid kya hai | Working |Application | Construction

अचंभित ना हो, ये ऐसा induction के कारण होता है. Solenoid में core material ferromagnetic होता है, मतलब ये magnetic lines of flux को concentrate करता है. और ये coil की inductance को increase करती है. जब coil में current flow होता है तो ज़्यादातर magnetic flux core material के अन्दर ही रहता है. कुछ बाहर की direction में निकलती है. और हम एक strong magnet बना पाते हैं.

Solenoid kya hai | Working |Application | Construction
Solenoid kya hai | Working

Solenoid का उपयोग:

Solenoid बहुत versatile और बहुत useful होते हैं. ये हर जगह पाया जाता है – automated factory equipment से लेकर paintball guns और doorbells तक  हर जगह present हैं. Chime doorbells में जब metal piston tone bar पर strike करता है तो audible chime produce होता है. Solenoid chimeअक़` cylindrical, hollow, plastic या phenolic form पर wound होता है जिसमे movable, solid iron या steel core होता है. Core coil के in और out axis के along travel करता है. Coil vertically oriented होता है और core normally coil के center में होता है. जब current pulse coil पर apply होता है तो magnetic field core को forcefully upward pull करता है.  Inertia core को coil के center के above ले कर जाता है, जब core metal के piece पर strike करता है तो loud “ding” बजता है.

उम्मीद है आप सभी को एक article informative लगा होगा और आप like या अपने view देना ना भूले.

Preeti

Preeti is pursuing her engineering under electronics engineering program. She always crave to learn the technology specially which touches the newfangled part. She has a bad habit of entering into the world of programming languages. She is still trying to be a developer and in her free time she is wordsmith to write her imaginations.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *