Soldering kya hai? kaise karte hain?

3
2063

आपके साथ कभी न कभी ऐसा तो हुआ होगा की आपका कोई electronic इक्विपमेंट, toy या फिर गैजेट में से कोई wire detach हो गया हो और आपको सोल्डरिंग करने की जरुरत हुई हो. या फिर आप इलेक्ट्रॉनिक्स में interest रखते हैं और सोचते हैं कि सोल्डरिंग करने में सिर्फ आयरन रॉड को टर्मिनल पर कनेक्ट करने से काम हो जाता होगा, तो आप एकदम सही जगह हैं. इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि कैसे हम सोल्डरिंग करते हैं, क्या उसमे उसे होता है और बाकी क्या क्या कर सकते हैं बेहतरीन सोल्डरिंग skills के लिए. तो सोचना क्या है, let’s start.


सोल्डरिंग क्या है?

अगर आप कोई भी इलेक्ट्रोनिक या electrical इक्विपमेंट को खोल कर देखते हैं तो आपको एक छोटा मोटा circuit board देखने को जरुर मिलेगा और आप उसमे देखेंगे कि कैसे electronic कॉम्पोनेन्ट एक दुसरे से जुड़े होता हैं. सोल्डरिंग दो या दो से अधिक इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्पोनेन्ट को सोल्डर के साथ पिघला कर जोड़ने की एक तकनीक है जो इस प्रकार जुड़े होते हैं कि conductivity पूरी तरह बनी रहती है.

Soldering kya hai, Image Credit: www.makerspaces.com

सोल्डर एक metal alloy है जो गरम करने पर पिघल जाती है जिसे हम कॉम्पोनेन्ट के बीच में लगा देते हैं. और जैसे ही ये alloy ठंडी होती है तो ये जोड़ने वाले इलेक्ट्रॉनिक कोम्पोनेट्स के बीच में एक स्ट्रोंग bond बना लेती है. ठंडा होने पर ये bond permanent हो जाता है और काफी robust भी रहता है. पर अगर आपको इसे हटाने की यानी की वापस तोड़ने की जरुरत पड़ती है तो वह भी किया जा सकता है और इस तकनीक को हम desoldering process कहते हैं.   


Soldering Tools

Soldering को बहुत से लोग शॉर्टकट से करने का try करते है. पर आपको तरीके के साथ, last longing और minimum टाइम में होने वाली सोल्डरिंग करनी है तो आपको नीचे दिए गए कुछ टूल्स की आवश्यकता होगी. 

सोल्डरिंग आयरन 

सबसे बेसिक टूल जिसके बिना सोल्डरिंग possible नहीं है. सोल्डरिंग आयरन एक ऐसा हीटिंग टूल है जिसे आप डायरेक्ट AC सप्लाई provide करके हीट कर सकते हैं और जिसकी सहायता से आप सोल्डर को इलेक्ट्रिक connection के चारो तरफ पिघला सकते हैं. मार्किट में ये 15W से 30W की रेंज में beginners के लिए ये टूल्स अवेलेबल हैं. सोल्डरिंग आयरन में usually high temperature पर ऑटो cutoff रहता है फिर भी इसकी टिप काफी गरम होती है और इस्तेमाल करते हुए सावधानी बरतनी चहिये कि आपका हाथ न जल जाए. 

Soldering iron in hindi Image Credit: www.makerspaces.com

सोल्डर

सोल्डर एक तरह की metal alloy है जो electrical कॉम्पोनेन्ट के बीच में मेल्ट करके डाली जाती है और यह ठंडी होकर permanent जॉइंट बना लेती है. इसे अच्छी तरह लगाने के लिए एक अलग से material जिसे flux कहते हैं, आता था. पर आजकल सोल्डर के अन्दर ही flux मौजूद रहता है और आपको अलग से खरीदने की आवश्यकता नहीं होती. सबसे commonly उसे होने वाला सोल्डर rosin core solder है जोकि टिन और कॉपर से बना होता है. मार्किट में lead और lead free दोनों तरह के सोल्डर आते हैं. Lead सेहत के लिए हानिकारक होता है. अगर आप इस तरह का सोल्डर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो proper ventillation का ख्याल रखे.

Solder wire in hindi Image Credit: www.makerspaces.com

Soldering Station 

अगर आप professionally soldering करते हैं या hobbyist हैं जो कि प्रोजेक्ट etc बनाने के लिए frequent सोल्डरिंग करते हैं तो ये आइटम आपके लिए है. इस की सहायता से आप अपनी सोल्डरिंग आयरन का एक्साक्ट temperature सेट कर सकते हैं. Temperature सेट करने के लिए डिजिटल और knob टाइप दोनों arrangement मार्किट में आते हैं. गर्म सोल्डरिंग आयरन को रखने का हमेशा issue रहता है तो इसके लिए इसमें एक specially designed होल्डर भी रहता है जिसमे आप काम करते हुए सोल्डरिंग आयरन रख सकते हैं. बिना स्टेशन के भी सोल्डरिंग आयरन स्टैंड मार्किट में अवेलेबल हैं. 

Soldering station in hindi Image Credit: www.makerspaces.com

सोल्डरिंग आयरन टिप  

सोल्डरिंग आयरन के एंड पर detachable टिप लगी होती है जिसे आप अपनी इच्छानुसार बदल सकते हैं. अलग अलग टिप अलग-अलग कार्य के लिए इस्तेमाल होती है. Example के तौर पर chisel टाइप की टिप का इस्तेमाल wires को और बड़े कॉम्पोनेन्ट को सोल्डर करने के लिए किया जाता है तो दूसरी और अगर आपको बहुत fine और छोटे एरिया में सोल्डरिंग करनी है तो आपको conical tip का इस्तेमाल ज्यादा सुविधाजनक रहेगा. 

Sponge (स्पंज)

सोल्डरिंग करते समय सोल्डर की टिप पर कुछ सोल्डर oxidize होकर चिपक जाता है. अब गरम होने की वजह से आप हाथ से या किसी कपडे से तो हटा नहीं सकते. उसके लिए स्पंज को गीला करके या फिर brass स्पंज को इस्तेमाल करके ऑक्सीडेशन को हटा देते हैं. अगर ये ऑक्सीडेशन टिप से नहीं हटाते तो सोल्डरिंग आयरन की सोल्डर को पकड़ने की क्षमता धीरे धीरे कम होने लगती है. 

Brass sponge and foam sponge

सेफ्टी टिप्स 

सोल्डरिंग आयरन का temperature 400 डिग्री तक हो सकता है. इसके लिए इम्पोर्टेन्ट है कि आप सोल्डर करते समय हमेशा आयरन स्टैंड का इस्तेमाल करे. कई बार सोल्डर छिटक कर आँखों की तरफ आ सकता है इसके लिए सेफ्टी ग्लासेज का इस्तेमाल करना हमेशा recommended रहता है. Lead टाइप सोल्डर से fumes निकलने की वजह से आप उन्हें inhale कर सकते हैं. इसके लिए फ्यूम extractor का इस्तेमाल करना recommended है. 



सोल्डरिंग स्टेप्स 

सोल्डरिंग करने के लिए एक्जाम्पल के तौर पर हम एक PCB को सोल्डर करने की कोशिश करेंगे. आइये देखते हैं कि क्या क्या स्टेप्स हमे फॉलो करने होंगे 

1. Tip क्लीनिंग: सबसे पहले सोल्डरिंग आयरन को गरम करके उसका ऑक्सीडेशन हटा कर अच्छे से क्लीन कर ले. 

2. PCB के होल में कॉम्पोनेन्ट (इस केस में हम एक LED  को सोल्डर करेंगे) की लेग्स को insert करना है. और इन लेग्स को थोडा सा मोड़ देना है ताकि आपकी LED नीचे न गिर जाए.

Image Credit: www.makerspaces.com

3. उसके बाद अपनी सोल्डरिंग आयरन को ON करेंगे और हीट करना शुरू करेंगे और आयरन टिप को PCB और LED की लेग पर 4-5 सेकंड के लिए टच करा कर रखेंगे. 

Image Credit: www.makerspaces.com

4. इसके बाद जॉइंट पर सोल्डर लगाना होता है. ये ध्यान रखने वाली बात है कि जब सोल्डरिंग आयरन को हिलाना नहीं है. सोल्डर को डायरेक्टली आयरन पर नहीं लगाना होता है क्यूंकि जब तक जॉइंट गरम नहीं होगा तब तक सोल्डर लगा के फायदा नहीं होता और connection जॉइंट अच्छे से नहीं बन पाता. गर्म जॉइंट पर अच्छे से सोल्डर लगा कर उसे शेप देना चाहिए. 

Image Credit: www.makerspaces.com

5. अभी आप LED की legs की एक्स्ट्रा लेंग्थ को काट सकते हैं. और फाइनली एक smooth टच दे सकते हैं. 


Desoldering

Desoldering bread से

अभी आपने सोल्डरिंग करना तो सीख लिया पर desoldering करना अपने आप में एक सिरदर्द है. कई बार आपको किसी कॉम्पोनेन्ट को हटाना होता है और कई बार सोल्डरिंग करते हुए ही गलती हो जाती है. ऐसे केस में आपको कांटेक्ट को desolder करना पड़ता है. Desolder करने के लिए दो तरीके हैं. 

Desoldering Braid Image Credit: www.makerspaces.com

Desoldering bread को उस जॉइंट पर रखना होता है जिसे desolder करना है. उसके बाद सोल्डरिंग आयरन को हीट करके उसकी टिप को braid पर लगाना होता है. और हीट होने से सोल्डर melt होके bread पर absorb हो जाता है. अब braid को हटा कर देख सकते हैं कि सोल्डर पूरी तरह हटा कि नहीं. अगर नहीं तो procedure repeat कर सकते हैं. 

Desoldering process

Desolder sucker से

अगर ये आपका रोज का काम है या आपको काफी सारा desolder करने की जरुरत पड़ती है तो आपके लिए desolder sucker अवेलेबल है. आपको सोल्डरिंग आयरन को को गरम करना है और जॉइंट पर लगाना हैं जिसे आप desolder करना चाहते हैं. जैसे ही जॉइंट गरम हो जाए आप sucker के प्लंजर को दबा कर जॉइंट पर लगाइए और फिर release कर दीजिये. उससे sucker में वैक्यूम बंनेगा और सोल्डर को सूचक कर लेगा और आपका सोल्डर जॉइंट से हट जायेगा. 

Desoldering sucker

तो दोस्तों, ये था सोल्डर और desolder करने का कम्पलीट डिस्क्रिप्शन. अगर आपको अभी भी कोई doubt है तो बता सकते हैं हमे नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में. मिलेंगे आपसे अगले आर्टिकल में. तब तक के लिए गुड बाय. और हाँ, आप नीचे दिए गए लिंक से डायरेक्टली खरीद भी सकते हैं.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here