Module 1 Ch1 | Learn Python: Introduction |

 

Learn Python: Easiest Way

स्वागत है आपका इस Python flying सर्कस में. जैसे ही हम ये शब्द “Python” सुनते है वैसे ही हमारे सामने एक image आ जाती है एक बड़े से साँप की जिसे हम बिलकुल देखना पसंद नहीं करते. तो चलो अब वक़्त आया है इसके image को बदलने का. एक साँप से एक language में तब्दील हुए Python को सिखने का. आजकल जिस स्पीड से python की डिमांड बढ़ रही है आने वाले टाइम में इस लैंग्वेज से रिलेटेड जॉब्स, मार्किट में आने की पूरी संभावनाएं हैं. लोग Python सीख कर घर बैठे ही Freelancing करते हुए जबरदस्त पैकेज पा सकते हैं.

Python एक programming करने की भाषा है जिसे 1991 में Guido Van Rossum ने develop किया था. ये language दो programming language से प्रभावित हो कर बना था.

blur close up code computer
Python: Future?

 

1.ABC language, जो BASIC के रिप्लेसमेंट में बनायीं गयी थी.
2.Modula-3

Python एक object oriented language है जिसे सीखना बहुत आसान  है. यह language बहुत हाई लेवल language है जो मिडिल लेवल language की तरह पावरफुल है पर C,C++,Java की तरह नहीं है.

अब जब हम Python के बारे में इतना जान गए है तो चलिए python के Advantages पढ़ लेते है.

Pluses of Python:

1. Easy to use:

Python compact और इसे इसतेमाल करना इसके साधारण से syntax rules के साथ बहुत आसन है. यह प्रोग्रामर फ्रेंडली है.

2. Expressive language:

इस language में लिखे हुए code का purpose प्रोग्रामर को आसानी से समझ आ जाता है.क्योकि इसके codes कम लाइन्स और आसान से syntax के होते है.

In C++: Program of Swap values    # In python: Program of Swap values

int a=6,b=5,temp;  

tmp =a;    

a = b;

b = temp;

a , b =6 ,5

a ,b = b ,a

इन दोनों codes में से कौन सा आसान है हम समझ सकते है.

3. Interpreted language:

Python एक interpreted language है नाकी compiled language.इसका मतलब यह हुआ की इसका code लाइन से लाइन execute होगा. इसलिए इसमें error निकालना और debug करना आसान है.

4. Its completeness:

जब हम python install करते है तो इसमें सभी libraries साथ में ही आ जाती है किसी भी काम के लिए बाहर से download नहीं करनी पड़ती.

5. cross-platform language:

python को हम किसी भी platform – Linux, Windows, Macintosh, Supercomputer या Smartphone पर आसानी से चल सकता है.

6. Free और open source:

python बिना किसी cost के हम ले सकते है और इसका source code open होने के कारण modify भी हो सकता है.

7. Variety of usage/applications:

Python को हम इन सारी application में इसतेमाल करते है:

  • Scripting

  • Web applications

  • Game development

  • System administrator

  • Rapid prototyping

  • GUI programming

  • Database applications

हर चीज के कुछ फायदे होते हैं तो कुछ कुछ नुक्सान भी हैं. हालांकि python के केस में या तो ये बहुत कम हैं या फिर बहुत ही छोटे छोटे.

Python-Minuses:

man in grey sweater holding yellow sticky note
Pluses of Python are way more than their minuses.

1.Not the fastest language:

Python पहला semi-compiled language internal byte-code है जो python interpreter में machine language में तब्दील होता है. Fully compiled language ज्यादा fast interpreted language से होती है.

2.C,Java,Perl से कम libraries:

Python की लाइब्रेरीज सभी computing programs के लिए उपलब्ध है पर ये C++,Java के लाइब्रेरीज से कम competent है.

3.Type binding पर इतना strong नहीं:

Python interpreter “type mismatch” नहीं पकड़ पाता. जैसे – अगर कोई variable integer declare किया जाए तो बाद में उसमे अगर string value रखे तो error नहीं आता. खैर इसके बारे में हम आपको बाद में भी बताएँगे. ये सब Terms सुन कर घबराने की जरूरत नहीं है .

4.आसानी से convertible नहीं:

इसमें syntax की कमी के कारण Python आसान तो हो जाता है पर इसे दुसरे language में आसानी से इसके code को बदल नहीं सकते.

तो ये थे python के Advantages और disadvantages. और सिंपल सिंपल, सीधा सीधा introduction. अभी हम धीरे धीरे इसकी complexicity की तरफ बढ़ेंगे. जुड़े रहिये और अगले आर्टिकल को enjoy कीजिये.

 

Nitin Arya

He is lucky be to a fast-growing YouTuber. Like every third person now in india, he is an engineer, working as manager in public sector. A photographer and a science teacher who usually deviates to the miracles of science rather than completing syllabus.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: