- Popular Around the World -
Home Awesome Tech Pulse Oximeter क्या है और यह कैसे काम करता है

Pulse Oximeter क्या है और यह कैसे काम करता है

0
29
pulse-oximeter
- Popular Around the World -

आज पूरा विश्व कोविड-19 के संक्रमण से परेशान है और सारे देश इस Virus से लगातार लड़ रहे हैं। हाल ही में रूस ने  कोरोना की वैक्सीन SPUTNIK- V बनाई है  जो कि विश्व की पहली वैक्सीन है जो  कोरोना के संक्रमण को खत्म कर सकती है। लेकिन हम आज आपके कैसे डिवाइस के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि या पता कर सकती है कि कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित है या नहीं है, तो उस  डिवाइस का नाम है Pulse Oximeter.

आइए जानते हैं Pulse Oximeter बारे में:-

न्यूयॉर्क के  बेलेव्यू  हॉस्पिटल में कई दिनों तक काम करने के बाद डॉक्टर रिचर्ड लेवीटन  ने कोविड-19 के बारे में जो भी सीखा उसके बारे में बताते हुए कहा कि हॉस्पिटल में बहुत से मरीज ऐसे थे जिनमें ऑक्सीजन लेवल काफी कम था जिसे गंभीर समस्या और मौत का खतरा माना जाता है। लेकिन एक साधारण गैजेट Pulse Oximeter की मदद से मरीज की स्थिति गंभीर स्थिति में पहुंचने से पहले यह अलर्ट कर देता है 

pulse oximeter

एक Pulse Oximeter छोटा डिवाइस है जो की एक क्लिप या पिन तरह होता है जिसे उंगली में किसी क्लिप की तरह फंसा कर इसमें लगे सेंसर से यह पता लगाया जा सकता है कि खून में ऑक्सीजन का प्रवाह कैसा है। साथ ही इसकी रीडिंग ऑक्सीमीटर की स्किन पर दिख जाती है  जिससे यह  डिवाइस आम व्यक्तियों के  लिए उपयोग करना  आसान हो जाता है। अगर किसी  व्यक्ति की ऑक्सीजन रीडिंग 95 से 100 के आस-पास  हो तो यह सामान्य है लेकिन अगर ऑक्सीजन रीडिंग 92 या उससे कम दिखाई दे तब तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इस डिवाइस में आपके हार्ट रेट को भी मॉनिटर करने की सुविधा दी गई है।

Pulse Oximeter कैसे काम करता है?

- Popular Around the World -

जब आप अपनी उंगली को  Pulse Oximeter में डालते हैं तो यह आपकी उंगली के माध्यम से लाइट के अल्ट्रा रे से होते हुए गुजरता है लेकिन आप  उस किरणों को महसूस नहीं कर सकते। यह हीमोग्लोबिन को टारगेट करके आप के ब्लड में प्रोटीन के अणु से ऑक्सीजन लेवल का पता लगाता है, अगर कभी आप डॉक्टर के पास गए होंगे तो आप ने Pulse Oximeter को जरूर देखा होगा। वैसे आमतौर पर यह डिवाइस ठंडे हाथों की तुलना में गर्म हाथों में बेहतर काम करता है क्योंकि  ऑक्सीजन लेवल में उतार-चढ़ाव होते रहते हैं इसलिए  ठंडे हाथों में इसकी जांच सटीक नहीं हो पाती है। 

Pulse oximeter working

अधिकांश स्वास्थ्य  टेक्नीशियन  का मानना है कि यह डिवाइस Middle Finger पर यूज करने पर यह सटीक  जानकारी देता है।  इसके अलावा अगर नेल पॉलिश लगी हो तो यह डिवाइस ठीक से काम नहीं करेगा और रीडिंग सही से नहीं दे पाएगा, साथ ही अगर नाखून बड़े हो तो उंगली सही से क्लिप में नहीं लग पाएगी और सटीक जानकारी नहीं मिलेगी।

 Pulse Oximeter के उपयोग: –

  • Pulse Oximeter का सबसे पहले उपयोग यही है कि खून में ऑक्सीजन की मात्रा को मॉनिटर करने के लिए। 
  • किसी मरीज को बेहोश करने की आवश्यकता होती है तो उनकी सर्जिकल प्रोसेस के दौरान या बाद में ऑक्सीजन के स्तर की निगरानी करने में।
  • किसी स्लीप एपनिया( नींद के समस्या)  के मामले में अध्ययन करने के लिए।
  • यह जांचने के लिए कि फेफड़े से संबंधित दवाइयां लेने पर वह दवाइयां कितनी अच्छी तरह की से उस व्यक्ति पर काम कर रही है।

 अंत में

इन दिनों Pulse Oximeter बहुत महत्वपूर्ण साबित हो रहा है क्योंकि इसकी मदद से किसी भी लक्षण दिखने से पहले ही पता चल जाता है की कोरोना वायरस  मरीज के फेफड़ों पर क्या असर डाल रहा है।  सांस फूलना बुखार आना या होठों में नीलापन तो काफी बाद आता है उससे पहले यह उपकरण मरीज की हालत बता देता है,  जिससे कोरोना के कारण होने वाली मौतों की दर को कम किया जा सकता है।  जिन कोरोना मरीज का इलाज घर पर ही हो रहा है तो वे मरीज इस गैजेट का यूज करके अपने day-to-day ऑक्सीजन रीडिंग लेकर जांच कर सकते हैं। तो दोस्तों कैसा लगा आपको आज का  आर्टिकल बताइएगा कमेंट सेक्शन में मिलते हैं एक नए इंटरेस्टिंग आर्टिकल में तब तक के लिए गुड बाय।

और हाँ, आपके पास भी है कोई जबरदस्त टेक्नोलॉजी से रिलेटेड मसाला और आपको है लिखने में जरा सा भी इंटरेस्ट तो आप हमे अपने आर्टिकल्स aryan.yudi@gmail.com पर भेज सकते हैं. हम पब्लिश करेंगे अपनी वेबसाइट पर.

- Popular Around the World -

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here